no mad
Poetry

खानाबदोश….

अलग अलग मंजिलों पर रहता मैं, कभी जिंदगी की तन्हाई तलाशने, ऊपर छत पर एक कमरा है, पुराना रेडियो पुरानी कुर्सी, और धूल लगी हुई कई तस्वीरें, जिंदगी से ऊब कर बैठता जा मैं उस मंजिल पर, कभी तलघर वाली मंजिल पर चला जाता, मकड़ी के जालों में सर घुसा ढूँढता हूँ बचपन की चीजें, […]

empty man poetry

खोखला आदमी ..

dads diary

लुका-छुपी ….

wrecked life

उजाड़…

rain childhood

बचपन और बादल

Random Thoughts Thoughts

#Bihar Needs Reverse Migration – नादान परिंदे घर आजा !

दीवाली और छठ त्यौहार बिहार की सांस्कृतिक समृद्धि को प्रदर्शित करते । नेताओं से लेके न्यूज चैनल तक ने खूब ब्रांडिंग भी की गाने बजाए, फेसबुक व्हाट्सएप्प ऑडियो वीडियो सब जगह इस पर्व में बिहार ही बिहार दिखता । पर हर त्यौहार का वर्ष एक टीस लेके आता अपनों से हर वर्ष नहीं मिलने का […]

Summer - Eco Tourism
Random Thoughts Thoughts

गर्मियाँ – बच्चों का इको टूरिज्म !

शायद मैं या मेरे समकक्ष उम्र के लोग उस पीढ़ी से आते है जिसने लालटेन के नीचे शाम को पैर हाथ धो के गोल घेरे में सामूहिक पढ़ाई की होगी । क्रमशः इसके बाद कि पीढ़ी बदल गयी सम्भवतः वो कभी लालटेन में नहीं पढ़ेंगे । जिन्दगी के अनेकों ऐसे आयमों को वो किस्से कहानियों […]

Random Thoughts Thoughts

संजय उवाच – भारत बंद !

धृतराष्ट्र संजय से – क्या हो रहा हस्तिनापुर में ; महाराज बुलेट ट्रेन की चाह रखने वाले ; पटरी उखाड़ ले गए । आज भारतवर्ष बंद था तो महाभारत का डेमो सड़क पर प्रदर्शित किया गया , लोकतंत्र की रक्षा के लिए गाड़ी जलाए गए, संविधान बनाने वाले के नाम का नारा लगाके खूब संविधान […]

dads diary
Life Events My Living Poetry

लुका-छुपी ….

बचपन का एक कौतुहल जो हर बच्चा अपने माँ के आँचल में सीखता, चेहरा छुपाना, फिर शरारत भरी नजरों से देखना की सब उसको देख रहे या नहीं, कभी कभी जब चेहरे से आँचल को नहीं हटा पाता उलझ जाता तो अपने गुस्से को जाहिर करना कि कोई उसकी मदद करें, बच्चों के इस लुका […]

Sillhoutes Of Life …..

New Year New Me 2018

नया वर्ष है नया सवेरा ..

Rafi

Rafi – Tribute to Musical Legend

Dad Diary

Dad’s Diary – 1

Subscribe Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Archives

Browse Books Online