तुम आना फिर ..

तुम आना फिर ..पहली दफा जैसे अजनबी के तरह,पूछना सकुचाते हुए नाम और शहर । कुछ दिन करना बातें अनमने ढंग से,सुबह शाम छोटे छोटे शब्दों में,खत्म करना रोज की …

Read More

शोर ….

(वर्तमान परिदृश्य पर कुछ पंक्तियाँ …… ) कानों पर हाथ रख लेने से शोर खत्म नहीं होता, बस कुछ देर तक ही रोक पाते है, अपने आस पास के कोलाहल …

Read More

फेरीवाले की आवाज .. लॉक – अनलॉक जिंदगी !

गली में आवाजें लगाता वो, माथे पर बड़ी सी टोकड़ी जैसे, सामानों का जखीरा उठा रखा हो । उसकी आवाज़ें कौतूहल से भरी, विवश करती खिड़की से झाँकने को, बच्चे …

Read More
Hindi Poem on Covid Situation

घुटन .. लॉक – अनलॉक के बीच !

इंसान जड़त्व को स्वीकार नहीं कर सकता । इस वैश्विक महामारी ने हमारे अंदर जड़त्व को ला दिया है । खिलाड़ी खेले नहीं, एक्टर अभिनय नहीं करें, छात्र पढ़े नहीं, कर्मी …

Read More