no mad
Poetry

खानाबदोश….

अलग अलग मंजिलों पर रहता मैं, कभी जिंदगी की तन्हाई तलाशने, ऊपर छत पर एक कमरा है, पुराना रेडियो पुरानी कुर्सी, और धूल लगी हुई कई तस्वीरें, जिंदगी से ऊब कर बैठता जा मैं उस मंजिल पर, कभी तलघर वाली मंजिल पर चला जाता, मकड़ी के जालों में सर घुसा ढूँढता हूँ बचपन की चीजें, […]

empty man poetry
Poetry

खोखला आदमी ..

करता जिंदगी की बातें वो, बड़ी बड़ी वसूलों की फेहरिस्त लोग सुन के सोचने लगते थे बदल जाती थी कई की जिंदगी कुछ खाली खाली लोग उससे मिल भर जाते थे उम्मीदों की बातों से ; सब कहते जाने क्या क्या भरा है, उसके इस मन में ; उसे भी लगता वो भरा हुआ है […]

dads diary
Life Events My Living Poetry

लुका-छुपी ….

बचपन का एक कौतुहल जो हर बच्चा अपने माँ के आँचल में सीखता, चेहरा छुपाना, फिर शरारत भरी नजरों से देखना की सब उसको देख रहे या नहीं, कभी कभी जब चेहरे से आँचल को नहीं हटा पाता उलझ जाता तो अपने गुस्से को जाहिर करना कि कोई उसकी मदद करें, बच्चों के इस लुका […]

wrecked life
Poetry

उजाड़…

उजाड़ दिन , जैसे कुछ किताबें इधर उधर हो बिस्तर पर , कपड़े मुड़े सिमटे फेंकें हुए , क्या कहाँ किस ओर क्या पता , घण्टों खोजो तो न मिलता कोई सामान , ये थे उजाड़ घर के कुछ अस्त व्यस्त कमरे । अनबन, आधे अधूरे मन से बातें, बेरुखी, तकरार और जिरह ही जिरह, […]

rain childhood
Poetry

बचपन और बादल

जब भी बादल छाता है मेरा बचपन लौट जाता है ; वो कागज की नाव, वो छोटी सी छतरी , भीगे से जुते, बारिश में खेल, वो गिरना फिसलना , गंदे से कपड़े , बिगड़ी सी सूरत, माँ की फटकार, फिर थोड़ा सा प्यार, बस उम्र बढ़ी थोड़ी , ये बचपन और बादल ; कुछ […]

Summer - Eco Tourism
Random Thoughts Thoughts

गर्मियाँ – बच्चों का इको टूरिज्म !

शायद मैं या मेरे समकक्ष उम्र के लोग उस पीढ़ी से आते है जिसने लालटेन के नीचे शाम को पैर हाथ धो के गोल घेरे में सामूहिक पढ़ाई की होगी । क्रमशः इसके बाद कि पीढ़ी बदल गयी सम्भवतः वो कभी लालटेन में नहीं पढ़ेंगे । जिन्दगी के अनेकों ऐसे आयमों को वो किस्से कहानियों […]