New Year New Me 2018
Life Events My Living Poetry

नया वर्ष है नया सवेरा ..

New Year New Me 2018नया साल जैसे आपको ये महसूस होता की चलो एक पुराना लम्हा था खत्म हुआ ; अब एक नई उम्मीद है पुराने साल की कुछ अनचाही चीजें लगती इस साल ठीक हो जाएगी ! एक पूरा नया सजा सजाया बिना परेशानियों का सब कुछ बदल देने वाला एक नया वर्ष जैसे सामने हो और मन में दस्तक उठ रहा जो बीता उसको भूलो और आगे बढ़ो बदलो जो नहीं बदल सका ; जो ठीक नहीं हुआ उसे ठीक करो ! जो अधूरा रहा उसे पूरा करो एक पूरा वर्ष जीवन का उपहार है सामने !

आने वाले सौगातों को
बीते दिन की बातों को
तेरे कदमों को चलना होगा !

जर जो अब तक नहीं हिले
इस वर्ष भी उनमें लगना होगा
झंझावातों से कब कौन रुका
हर मौसम यूँ ही निकलना होगा !

दुर्गम पथ है ज्ञात है सबको
कदम सख्त कर बढ़ना होगा
कुछ थे जो तुझसे असहमत हुए
उन्हें फिर से तो समझाना होगा !

जो न समझे मेरी नज्मों को
फिर नए शब्दों को गढ़ना होगा
जिन रिश्तों पर कुछ ढील हुई
हाथ मजबूती से पकड़ना होगा !

नया वर्ष है नया सवेरा
कुछ तो साथी करना होगा ।

नव वर्ष की शुभकामनायें – सुजीत 🙂

Sujit Kumar Lucky
Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : - सुजीत भारद्वाज
http://www.sujitkumar.in/