Love Two Liners Poetry By Sujit
Poetry Two Liners

इश्क़ – 5

अजब कशमकश में घेर लेती ये जिक्र तेरी, हर कोशिश मेरी दूर जाने की कुछ काम ना आती ! #इश्क़ अलविदा से किसी और जहाँ में रह, मैं फिर भी तेरी रोज खबर रखता हूँ । #इश्क़   खामोशी के मायूसी में उसे ढलते देखा, आज किसी इंतजार में उसे जलते देखा । #इश्क़ थोड़ा […]

Love Two Liners Poetry By Sujit
Poetry Two Liners

इश्क़ – 4

इश्क़ के कुछ रंग ऐसे भी .. इस आदतन ख़ामोशी की वजह इतनी है, तुझे कुछ कहके दिल अपना दुखा लेता । #यूँही #Ishq बस चिट्ठियों को मिले मुक्कमल पता, लिखने से कब गुरेज रखा किसने ! तेरी यादों के साथ जो सुबह हुई, उसमें उजाले बहुत है … #इश्क बेवजह जो हरपल फ़िक्र करता […]

Love Two Liners Poetry By Sujit
Poetry Two Liners

इश्क़ – 3

इश्क़ के कुछ रंग ऐसे भी .. रूठ के कुछ दूर है जाता, जो इश्क़ न होता तो, वो न लौट के आता ! #इश्क़ उसे मनाना नहीं आता, मुझे मनाने की कोशिश में, वो खुद ही रूठ जाता । #इश्क़ मेरी नजर पड़ी … उसकी नजर झुक गयी, मेरी नजर पड़ी … वो हया में […]

Love Two Liners Poetry By Sujit
Poetry Two Liners

इश्क़ – 2

इश्क़ के कुछ रंग ऐसे भी .. आओ रूठे से चेहरे को मनायें, इश्क़ है तो वो गिला भी करेगा । #इश्क़ इश्क़ आँखों से कैसे छलके, पेशानी पर शिकन की दरारों में, ये कहीं गुम सी हो जाती ! ! #इश्क़ मेरे सफर की उलझनों में तुम साथ हो, मेरे कदम को अब क्या मुश्किलें […]

Love Two Liners Poetry By Sujit
Poetry Two Liners

इश्क़ – 1

इश्क़ के कुछ रंग ऐसे भी .. वो सुई धागों में उलझी उलझी कहीं, कुछ नए रिश्तों में टाँके लगा रही थी !! #इश्क़ पायलों को नहीं है तहजीब का असर, तुम पांवों को कहो आहिस्ता से चले । #इश्क़ बहुत ही कर ली हमसे शिकायतें तुमने, थोड़ा इस वक़्त को भी दोष दो दूरियों का […]

Two_Liners From Sujit
Poetry Two Liners

#SK – Two Liners – II

लघु कविता क्षणिकाएँ है जो अनायास ही मष्तिष्क में आती लेकिन इनका जुड़ाव स्तिथि से, यादों से जरूर होता ! Yet Another Part of Two liners Hindi Poetry … #Sujit किस तरह देखो घिर गयी घटा, बदल गया है मौसम ; जैसे बदल जाती है जिंदगी ; कुछ सवालों के घिरने से ! #मौसम अपने […]