New Year New Me 2018
Life Events My Living Poetry

नया वर्ष है नया सवेरा ..

नया साल जैसे आपको ये महसूस होता की चलो एक पुराना लम्हा था खत्म हुआ ; अब एक नई उम्मीद है पुराने साल की कुछ अनचाही चीजें लगती इस साल ठीक हो जाएगी ! एक पूरा नया सजा सजाया बिना परेशानियों का सब कुछ बदल देने वाला एक नया वर्ष जैसे सामने हो और मन […]

Poetry

नव वर्ष – फिर सजेगी बिसातें !

नव वर्ष जैसे बारह खानों में फिर सजेगी बिसातें, हर दिन की कहानी और किरदारों का रंगमंच ! कुछ कोसते हुए चालें चाली गयी होंगी, कुछ दंभ टूटा होगा किसी किरदारों का ! कुछ मोहरों ने खींचे होंगे पांव पीछे ; कुछ मोहरों ने दिखाया होगा जज्बा ! कुछ अफ़सोस हुआ होगा अपनी बाजी का […]