अब जो भी ख्वाब आ जाते …

dreamsजिस्म थक जाता है दिन से रूबरू होकर …
नींद से पहले जो आधे अधूरे थोड़े से,
अब जो भी ख्वाब आ जाते मैं उन्हें समझा दूँगा !

आठ पहर शिकायतों के लिये क्योँ खोजे,
वक्त दो पल की ही मिलती है मुस्कुराने को !

कहीं बहुत दूर इस जहाँ से जा के,
कभी फुर्सतों में खो के सोचेंगे..
क्या गुनाह किया.. क्या दुःख था !

क्या बातें थी जिसे सोचा ना जा सका;
क्या बंदिशे थी जिसे तोड़ा ना जा सका !

हर वादों से निकल कर कह गया,
बिन उम्मीदों के सब राह चुन लिया !

उलझनों को शब्द का पनाह है बस मंजूर,
गुफ्तगूँ बयाँ एक अदद खामोशी कैसी,
अब जो भी ख्वाब आ जाते मैं उन्हें समझा दूँगा !

: – सुजीत

Image Credit : http://www.onislam.net/