Life Poetry Sujit

कल का नशा …. #SK

life-is-a-story-quotes-sayings-picturesकल का नशा आज चेहरे पर,
धीमे धीमे आँखों से उतर जाता !

दिन की थकन रात की आगोश में जाती;
सुबह होती और फिर सब संवर जाता !

बिखरा बिखरा तुझसे कुछ कहता ;
क्या सोच फिर फासला बना लेता !

कब तक रुकूँ और देखूँ तेरी राह ;
कुछ सोच यूँ राहों पर निकल जाता !

क्या रुके और देखे इसका चेहरा ;
बड़ी तेज है जिंदगी रोज ही ढलती !

ढलता ही रोज बोझिल शामों में ये ;
अँधेरों में गुजरकर बिखरता निखरता !

ये जिंदगी जो भी है ऐसे ही जीता !

One thought on “कल का नशा …. #SK

Comments are closed.