उस रास्ते ….

उस रास्ते पर वो रोज जा के बैठ जाता, कितनी सुबह पता नहीं .. थपेड़े उसके जिंदगी में ज्यादा होंगे, हर मौसम उसे सर्द सा लगता है, हवायें ना बदलती …

Read More

जिंदगी आखिर जिंदगी ही है..

एक संगीत कभी सुमधुर तानो भरा,कभी अनसुना विस्मित रागों सना ! एक हँसी कभी खुशी लहरों भरा,कभी व्यंग्य के उपहासो से जना ! एक क्रंदन कभी नयनों में भरा !कभी …

Read More

मेरे हमसफर

यूँ राह में, डगर में, छोड़ के चले जो हमसफर .. मगरूर बन, आवाज न देंगे, मेरे हमसफर ! गुजरे पल बीते, जैसे बीते गये हर पहर .. गुम से …

Read More