Random Thoughts Thoughts

Love in Inbox – #इनबॉक्स_लव – 2

inbox-love#इनबॉक्स_लव
ऐसे मैं कहीं नहीं हूँ कोई अपरिभाषित बंधन है,
जो मेरे क्षणिक मौजूदगी को बयाँ करता, पर अब दृढ़ हूँ ..
हठ भी अलग राहों पर जाने का !

#इनबॉक्स_लव
किसी पुराने ख़त को बार बार,
अलग अलग वक़्त के लम्हों में,
अलग अलग मायने में पढ़ता,
पुराने ख़त मैं हरबार नयी ही बात होती !

#इनबॉक्स_लव
आज की अधूरी बातें,फिर कल उसी जस्बात से,
वहीँ से उस आधे-अधूरे संवाद के आधे अक्षर में,
पूर्णविराम के ठीक पहले से फिर तुम कहने लगे !

#इनबॉक्स_लव
काफी सोचता हूँ ;
तुम्हारे किसी संवाद के प्रतिउत्तर में क्या लिखा जाए ;
कुछ लिखता हूँ .. कुछ रह ही जाता .. कुछ लिख नहीं पाता  !

#इनबॉक्स_लव
चिढ़ है ..हँसी वाले स्माइली से,
ये अक्सर पूर्णविराम बन जाता है,
कुछ होती बनती बातों के बीच,
हँसी वाली स्माइली के बाद बस ख़ामोशी पसरी होती !

#इनबॉक्स_लव
आँखें झुकायी  स्माइली में ;
एक स्नेह होता ;
एक निश्चल अभिव्यक्ति ;
कुछ देर संवाद रुक सी जाती .. झुकी आँखों के नीचे !

इनबॉक्स_लव By #SK

Read –  Love in Inbox Part – 1 

Sujit Kumar Lucky

Sujit Kumar Lucky – मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . “यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : – सुजीत भारद्वाज

http://www.sujitkumar.in/

One thought on “Love in Inbox – #इनबॉक्स_लव – 2”

Comments are closed.