Two_Liners From Sujit
Poetry Two Liners

#SK – Two Liners – I

अब कोई नज़्म नहीं लिखूँगा तुमपर देखों ये तुमने क्या कर दिया तुम्हारी नज़्म सा ही हो गया हूँ !! ‪#‎Randomthoughts‬ वहम था उन चेहरों का हँसना, यकीन यूँ ही नहीं उठता किसी से । ‪#‎पागलदुनिया‬ कोई हर रोज, घंटों सामने बैठ के जाता, ख़ामोशी मुझसे उसका ताल्लुक पूछती है । ‪#‎पागलदुनिया‬ नजाने कितने लम्हें […]