Yearly Archives: 2017

अहसासों को कभी पूछना …

laugh-1966858_640तुम अपने ताल्लुक के,
अबूझ हिस्सों में मुझे कभी देखना,
उस ओर भी एक दिलचस्प इंसान है,
बिलकुल तुम्हारी उम्मीदों की तरह का !

उम्मीदों के पहाड़ सा ढक दिया तुमने,
जज्बातों को घुटन की आदत सी हो जाएगी,
कभी खुले खुले में ला के देखना,
ये जज्बात बड़े खूबसूरत से होते है !

अहसासों को कोई ऐसी वजह न दो,
वो बिखर जाते तो फिर पनपते नहीं,
बस बंजर से दो दिलों को ताउम्र धड़काते रहते,
या जलाते रहते सीने में आग बनकर,
उन्हें तो छांव दो फूल बनके महक सके !

अहसासों को कभी पूछना,
वो कभी खामोश नहीं रहना चाहते,
बस कोई ऐसा सबब दो,
की वो हर पल मुस्कुरा सके !

#SK – Insane Poet

Up election poem sattire

यूपी का चुनाव-प्रचार

जनता की सेवा के लिए हो गया,
पिता पुत्र में भी तकरार,
ये है यूपी का चुनाव-प्रचार !

इधर के उधर गए,
और उधर के नजाने किधर गए,
मिल बैठे सब नदियों जैसे,
धूल गए पुराने कर्म और विचार,
ये है यूपी का चुनाव-प्रचार !

घी-तेल सब चुपड़े खायेंगे,
अब कोई क्यों करे व्यापार,
माटी छोड़ अब मंदिर महल बनेंगे,
अब राम जी का ही करेंगे ये बेड़ा पार,
ये है यूपी का चुनाव-प्रचार !

न कोई ऊँचा न कोई नीचा,
जपते रहे विधि के सरताज,
वोटर है अब भाई भाई,
घर में पड़ी वोट की मार,
ये है यूपी का चुनाव-प्रचार !

#SK

who talks a lot

तुम भी कभी बहुत बोलते थे….

बातों का सिलसिला अब वैसा नहीं चलता,
लम्बी फेहरिस्त होती थी बातों की,
मैं पहले तो मैं पहले की तकरार,
अब रुक रुक कर कभी कभार मैं कुछ पूछता,
और ठहरे ठहरे से तुम भी कभी बोलते,
मुँह फेर के तुम भी रहते,
बेमन से मैं भी कुछ कह देता,
बाँकी के खाली हिस्सों में,
लम्बी सी चुप्पी छा जाती,
उस ख़ामोशी की खाई में,
तेरी तस्वीर सी बनती है,
जो कुछ कहती तो नहीं,
हाँ याद दिलाती है,
तुम भी कभी बहुत बोलते थे !

#SK

political neta ji poem hindi

नेता जी – #MicroPoetry

सड़कों के भी पाँव पखारे जाने लगे,
लगता है नेता जी दौरे पर आने लगे !

लग गए विश्वकर्मा अब बनाने में पुल पुलिया
नेताजी की गाड़ी जब चली जनता की गलियाँ !

उड़ने लगे अब सड़कों पर पर्चे,
नेताजी के आने के है बड़े चर्चे !

फूलों का लगा अब बड़ा सा टीला,
मंदिर में कान्हा सोचे ये किसकी है लीला !

#SK

newyearnewme

नव वर्ष के नए नभ में …

बुझते अलाव सा नहीं…
दहकते आग सा बन,
दृढ प्रतिज्ञ बढ़ो ऐसे,
जीवन के विस्तार को बुन,
थकन पाँव में या लगे कांटे,
रुकना न तू अपनी रफ्तार को चुन,
जो टुटा भ्रम था वो रात था,
सुबह हुआ अब ऐसे ख्वाब तू बुन,
नव वर्ष के नए नभ में,
अपनी नई उड़ान को चुन ।।

#SK