Newton movie review hindi
Thoughts Videos & Cinema

सब न्यूटन है यहाँ ; नहीं है तो बनिए न्यूटन ( Newton Movie Review )

जब हम बात करते की हिंदी सिनेमा में कुछ अच्छा नहीं है देखने को, तब ऐसे में न्यूटन जैसी चलचित्र आती और लम्बे समय तक आपके दिलो दिमाग पर छाप छोड़ जाती | Movie : Newton ( 2017) Director: Amit Masurkar Writers: Amit Masurkar (screenplay), Mayank Tewari (screenplay) Stars: Rajkummar Rao, Pankaj Tripathi, Anjali Patil […]

morning and night poem
Poetry

रात और सुबह

रात अकेली है रो लो, गिरा लो आँसू कोरो से, बस सुबह जब निकलों, इस तरह की बनावट ले निकलना, चेहरों पर ; न शिकन ही रहे कोई न बचे कोई निशां चेहरे पर बीती रात के ग़मों की ; क्योंकि …. ये सुबह अकेला नहीं भीड़ है यहाँ, और इस भीड़ के कंधे नहीं […]

Love Two Liners Poetry By Sujit
Poetry Two Liners

इश्क़ – 5

अजब कशमकश में घेर लेती ये जिक्र तेरी, हर कोशिश मेरी दूर जाने की कुछ काम ना आती ! #इश्क़ अलविदा से किसी और जहाँ में रह, मैं फिर भी तेरी रोज खबर रखता हूँ । #इश्क़   खामोशी के मायूसी में उसे ढलते देखा, आज किसी इंतजार में उसे जलते देखा । #इश्क़ थोड़ा […]

respectful relationships poem
Poetry

बेअदब अदब रिश्ते …

वो रिश्ते जो अबूझ थे अच्छे थे, ठूठ पेड़ की तरह, न कोई हलचल थी, न कोई हवाएँ और न ही बढ़ते वो किसी की तरफ, बिना पहचान के खड़े रहते आमने सामने, ख़ामोशी से एक अदब का रिश्ता निभाते ! ये हरियाली लताओं सा रिश्ता, लिपटते मिलते, फिर बढ़ जाते गले की ओर, घुटन […]

Rain & Poetry
Poetry

सावन यूँ ही उतरा है आँगन में

बारिश से भींगे ये रास्ते, चहलकदमी के निशान, पत्तों पर फिसलती बूंदे, उथले उथले गड्ढों में पानी, सूखे पत्ते कीचड़ से सने हुए, आसमान में मेघों का झुंड, रुक रुक कर होती ये बरसात ! कागज की नाव, भींगने का मन, सावन यूँ ही उतरा है आँगन में । #SK  

My Voice Thoughts

भीड़ और मौत के सन्नाटे के बीच ..

एक सविंधान के  रक्षक को भीड़ इसलिए मार देती की वो अपने कर्तव्य को निभा रहा था, भीड़ और मौत के सन्नाटे के बीच न कुछ सवाल है न जवाब , न पक्ष है न विपक्ष बस है तो मौत का सन्नाटा ! कौन है हत्यारा ये समाज जिसके मन में विष ही विष है नफरत का […]