जीवन ऐसे ही बढ़ता !!

दिन बोझिल हो बेजार जब,
तन कुछ भी ना कहता,sin
कुछ ख्वाबों को इस रात का,
जब इक पनाह है मिलता !

सुबह फिर वही वैसी ही होगी,
तब ही आँखें हकीकत को ले हर,
ख्वाब तोड़ने का इक गुनाह है करता !

क्या रोता क्या हँसता,
ना सुनता ना कुछ कहता,
रोज तोड़ता रोज जोड़ता,
रोज ख्वाब कई वो बुनता !

अँधेरों में खुद ही जलता,
खुद को ही वो राह दिखाता !

धीमे धीमे आहट कर चल,
पग पग जीवन ऐसे ही बढ़ता !

#SK

One thought on “जीवन ऐसे ही बढ़ता !!

Comments are closed.