Videos & Cinema

कब आते हो कब जाते – Gulzar Video Poetry

कब आते हो ..कब जाते हो

ना आमद की आहट .. ना जाने की टोह मिलती है !
कब आते हो ..कब जाते हो !

ईमली का ये पेड़ हवा में जब हिलता है तो,
ईटों की दीवारों पर परछाई का छीटा परता है,
और जज्ब हो जातें जैसे !

सूखी मट्टी पर कोई पानी के कतरे फ़ेंक गया हो ..
धीरे धीरे आँगन में फिर धुप सिसकती रहती है ..
बंद कमरे में कभी कभी ,
जब दिये की लौ हिल जाती है तो,
एक बड़ा सा साया मुझे घूँट घूँट पीने लगता है !

कब आते हो कब जाते हो दिन में कितनी बार तुम याद आते हो !! #Gulzar

Sujit Kumar Lucky
Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : - सुजीत भारद्वाज
http://www.sujitkumar.in/