ravan dahan - vijyadashmi
Poetry

रावण जो तेरे अंदर बैठा है …

ravan dahan - vijyadashmi कागज़ों के रावण ही जलेंगे अब,
एक रावण मन में भी तो बैठा है !

द्वेष नफरत खिली चेहरे पर,
त्योहारों पर पहरा बैठा है !

सीख भजन की दब गयी कहीं,
यहाँ गला फाड़ सब बैठा है !

एक राम विजय का पर्व मनाते;
अब कई राम पराजित बैठा है !

मानवता को तू भूल रहा ;
ये कैसा हठ तू ले बैठा है !

जला सको तो जला लो तुम भी,
रावण जो तेरे अंदर बैठा है !

#Sujit …

Sujit Kumar Lucky
Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : - सुजीत भारद्वाज
http://www.sujitkumar.in/

One thought on “रावण जो तेरे अंदर बैठा है …

  1. सच कहा आपने कागज के रावन को जलाने से बुराईया नहीं मिटेंगी उसके लिए हमें अपने अन्दर के रावन को मिटाना पड़ेंगा, धन्यवाद्

Comments are closed.