The Paths of Destiny


किस्तों किस्तों में सुबह..
किस्तों किस्तों में होती शाम !

किस मुफलिशी के मारे..
हो गये देखो गुमनाम !

इस सफर को क्या नाम दोगे..
बस राहों को दे दो कुछ नाम !

साथ टूटे या हाथ छुटे..
होती नहीं हसरतें नाकाम !

बात हमारी भी होती होगी..
कुछ किस्सों में होगा ही नाम !

गिर गिर के सम्भलते है..
चुन ही लिया है जब अपना,
इक मंजिल इक मकाम !

Transcript 

kisto kistome me subah ..
kiston kiston me hoti sham !

kis muflishi ke maare..
ho gye dekho gumnam !

safar ko kya naam doge..
bs rahon ko de do kuch naam !

sath chute ya hath chute..
hoti nhi hasrate nakam !

baat hmari bhi hoti hogi..
kuch kisson me hoga hi nam !

gir gir ke khare hote hai,
chun hi liye hai jab apna,
ek manjil aur ek mukam..!

#$K… in Night And Pen