The Paths of Destiny

किस्तों किस्तों में सुबह..किस्तों किस्तों में होती शाम ! किस मुफलिशी के मारे..हो गये देखो गुमनाम ! इस सफर को क्या नाम दोगे..बस राहों को दे दो कुछ नाम ! …

Read More