Insane Life …

क्या आसां है उन चिड़ियों को कह देना,
उस बरामदे तुम ना चहचहाना अब;
अब अजनबी सा वो मकान हो गया है;
सुबह को भी बनाना मुश्किल ही है,
चेहरों पर उभरती हुई रेखाओं की तरह !!

airboat_silhouette_by_justanotherbella-d3jptfg

चेहरें पर हँसी का क्या खामोश ही है,
उसने तो देखी ही है उलझने कई;
इन मायूसी ने भी भी कई शाम बिताए है,
पाषाण सा हृदय अब नजरअंदाज करता कई बातें,
जिंदादिल हो मिलता है वो शहर के लोगों से !

सजा और गुनाह का मतलब पाट चुका अब,
छोड़ जाता है कई ख्वाबों को रातों के हवाले,
ना बातें करता ना पूछता किस्सा उसका कोई,
कुछ तो खोया ही होगा इन अँधेरों में उसका भी,
जिंदगी पर अक्सर बातें किया करता है वो !

#SK