अभी कुछ बाकी है

poem of due lifeरास्ते भले ही बदले हमने पर हम भी किसी मंजिल के राही है ,
उबर खाबर पगडंडियो पर जरुर फिसले हमारे पावं
पर चलने की ललक आज भी बाकी है !


वक़्त की भागदौर में रुकता गया कारवां
पर सपनो की भवर से निकलना आज भी बाकी है !
रुकी थकी यादों में डूबा जरुर में पर उन पर
लहरों का उठाना आज भी बाकी है !

थके थके से हो कदम मेरे लगते
पर मन में कसक अभी बाकी हैबाकी है ! ! !

रचना : सुजीत कुमार लक्की

3 thoughts on “अभी कुछ बाकी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *