understanding of life

जीवन बोध ….

understanding of lifeवो अनाम है,
अनुत्तरित प्रश्न है,
बस संवाद का एक शक्ल था,
अतीत में मिला उसे..

निस्तब्धता के अनेकों प्रयास ने,
उपेक्षित किया है उसे बार बार,
प्रतिध्वनि उठती है कई,
अवआकलन ही मिला उसे ..

जीवंतता के स्वर है उसके,
फिर भी एक अवनति सी है,
नफरत पसंद नहीं है वो,
हरकदम द्वेष ही मिला उसे ..

असंग हो बनो अग्रसर,
सब द्वन्द से परे बन,
प्रहसन बने न पथ कभी,
इस तरह जीवन बोध हुआ उसे .. !!

#SK

Post Author: Sujit Kumar Lucky

Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : - सुजीत भारद्वाज

2 thoughts on “जीवन बोध ….

    Gyanipandit

    (July 26, 2015 - 11:41 am)

    बहुत बढ़िया रचना , शुभकामनाये !

    Sujit Kumar Lucky

    (July 26, 2015 - 4:42 pm)

    Dhanyawad Mitr ..

Comments are closed.