writers love & You

तुम ….

This Poem reflects the writer’s emotions; how he defines his affections, he never sees his beloved one with his facets, His affection immerses in everything…

ये कविता एक लेखक के मनोभाव का प्रदर्शन है ; वो अपने स्नेह को परिभाषित करने की कोशिश करता है ! उसके लिए अपने प्रेम का कोई चेहरा नहीं है बल्कि प्रकृति के हर घटनाक्रम और चीजों में वो अपने प्रेम को व्याप्त पाता है !

~ तुम ~

धुप की दोपहर में,
आँखों में भरी नींद,
जैसा सुकून हो तुम ।

कच्ची मेढ़ों पर वो,
पैरों से चिन्हे बनाता,
वैसे हसीं हो तुम ।

लम्बे सफर से,
मंजिल तक पहुँचना,
जैसी तृप्ति हो तुम ।

मेले में कई चक्कर,
वो महँगा खिलौना,
जैसी उदासी हो तुम ।

मंदिर की सीढ़ी,
थाली में कुमकुम,
जैसे पाक हो तुम ।

माथें पर बिंदी,
लजाती सी दर्पण,
जैसी सादगी हो तुम ।

कोरों में काजल,
आँखें भरी सी,
ऐसी नजर हो तुम ।

भींगे से गमले,
खिले से पत्ते,
ऐसी सुबह हो तुम ।

कितनी व्यथा हो,
सुनते सदा हो,
जैसे सखा हो तुम ।

आँगन में छम छम,
बीता है बचपन,
जैसे सुता हो तुम ।

होते है जब दर्द कई,
दुख सुख सब भूल,
जैसे कोई दवा हो तुम ।

पुरानी बीती कई कहानी,
या अधूरी परी मेरी कविता,
ऐसी ही कोई किताब हो तुम !

कई लिबास है बुत के,
कई चेहरे भी यहाँ सब के,
बस एक अधूरी तलाश हो तुम !

न बंधन कुछ है,
बस एक अनाम रिश्तों सा,
दिल में अहसास हो तुम !

लिखता रहूँ अनवरत,
न शब्द थमता अब,
ऐसे जज्बात हो तुम !

#Sujit

1 thought on “तुम ….”

Comments are closed.