यायावर ..

हम जब किसी दूसरे शहर में जाते और वहाँ रहने लगते, वहाँ की गलियाँ, वहाँ की रातें, मिलते जुलते लोग, अजनबी रास्तों के साथी और बीता वक़्त एक यादों का समंदर बना देता हमारे अंदर और जब उसको छोड़ जातें वो यादों का शहर हमारे अंदर ही रह जाता इसी भाव से एक कविता !

बदलते रहना शहरों को
यायावर से जीने वाले
क्या याद रहता होगा उन्हें
किसी शहर में बितायी शामें
कितनी दफा कितने बरस
वो मंडी वो राशन छोटा सा ढाबा ।
ऊँघती मलती नींद से भरी आँखों का इतवार,
क्या याद रहता होगा उन्हें,
कभी कभी खिड़की से चांद को देखना
और सुनना संगीत तकिये पर पड़े पड़े,
चुनना भीड़ में से दो चार चेहरे और कहना उनको संगी
बांटना उनसे किस्से नए पुराने
और करना सुनी सड़कों पर आवारगी,
पूछना प्रेयसी के किस्से हँस हँस कर
फिर संजीदा हो कभी
करना जीवन की बड़ी बड़ी बातें,
अलविदा कहते हुए यादों के पहाड़ को,
कहाँ रख देते है ये यायावर लोग,
शहर की गलियों को धोखे में रख
किसी रात नजरें चुरा के ;
कहीं दूर किसी और शहर की ओर निकल जाते ये लोग ।

Poet : Sujit Kr.

Post Author: Sujit Kumar Lucky

Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : - सुजीत भारद्वाज