Night Moon & You Hindi Poem

रात और चाँद …

ये कैसी शरारत करते हो,
रात तारों के साथ ऊँघने छोड़ जाते हो,
तेरे जाने के बाद एक तारा,
पास आ बैठता,
कन्धों पर हाथ रख,
पूछता है तुम्हारी कहानी,
मैं उससे झूठ कहता की,
तुम एक दिन आने को कह गए हो,
उसकी हँसी चिढ़ाती है मुझे,
जैसे उसने बात न मानी हो मेरी !

किसी रोज आके दो घड़ी,
पास तो बैठो,
हाँ रात घनी हो बिना बादलों वाली,
उस तारे को दिखाना है मुझे,
जड़ना है उसके मुँह में ताला,
उसको पता चले जमीं पर चाँद होता है ।

ये कैसी शरारत करते हो;
रात तारों के साथ ऊँघने छोड़ जाते हो !

#सुजीत 

Post Author: Sujit Kumar Lucky

Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : - सुजीत भारद्वाज

8 thoughts on “रात और चाँद …

    gyanipandit

    (June 14, 2016 - 11:19 am)

    बहोत ही बढ़िया कविता खास कर
    “किसी रोज आके दो घड़ी,
    पास तो बैठो,
    हाँ रात घनी हो बिना बादलों वाली,
    उस तारे को दिखाना है मुझे,
    जड़ना है उसके मुँह में ताला,
    उसको पता चले जमीं पर चाँद होता है ।”
    ये पंक्तिया अच्छी लगी

    lifestylehindi

    (June 14, 2016 - 12:47 pm)

    सुजीत कुमार जी ,
    आपकी रचना काफ़ी दिलचस्प लगी.
    धन्यवाद्

    Bloggeramit

    (June 18, 2016 - 1:00 pm)

    Bahut hi sundar sujit ji

    Sujit Kumar Lucky

    (June 24, 2016 - 6:15 pm)

    Shukriya Amit 🙂

    Sujit Kumar Lucky

    (June 24, 2016 - 6:16 pm)

    स्वागत है अापका !!

    Sujit Kumar Lucky

    (June 24, 2016 - 6:16 pm)

    शुक्रिया सर !!

    SUNIL SHARMA

    (January 3, 2017 - 7:25 am)

    bahut khoob…bahut aacha likhe hai sujit babu…raat chand aur tum…

    Sujit Kumar Lucky

    (January 4, 2017 - 4:39 am)

    धन्यवाद मित्र !!

Comments are closed.