अधुरा अलविदा ….

lights-need-postcards-far-away-snow-sometimes-Favim.com-466902अलविदा अधुरा ना होता वो,
जो तेरे जिक्र में मैं ना नजर आता ।

फिर ना फिक्र उमड़ती मुझमें,
जो तु अधुरा ना नजर आता ।

बेफिक्र ही गुजर जाता दूर मैं,
जो रास्तों में तू ना नजर आता ।

मुस्कुरा कर रह लेता अपने गमों में,
जो तेरे आँखों में कोई गम ना नजर आता ।

तेरी ख़ामोशी ही मेरी नाराजगी रह गयी हमेशा,
मैं देखता रहा और तुझे ही कुछ नजर ना आता ।

अगर कह दिया अलविदा तो ये मुक्कमल होता,
ना दूर गये तुम कहीं और ना ही पास कुछ नजर आता ।

ये आखिरी अलविदा भी अधुरा ही रह गया,
बिखरा सिमटा मैं ऐसा ही बस अब नजर आता ।

सुजीत

One thought on “अधुरा अलविदा ….

  1. yogi saraswat

    तेरी ख़ामोशी ही मेरी नाराजगी रह गयी हमेशा,
    मैं देखता रहा और तुझे ही कुछ नजर ना आता ।

    अगर कह दिया अलविदा तो ये मुक्कमल होता,
    ना दूर गये तुम कहीं और ना ही पास कुछ नजर आता ।
    ​बहुत सुन्दर

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *