new love hindi poem
Poetry

इश्क़ ही है ..

वो जो रातों को अधजगा सा रखता, अजनबी संग देखो सब भेद है कहता, यूँ ही मन ही मन कुछ गुनगुनाता है रहता ! ये जो कुछ कुछ अपना सा लगने लगा है, ये देखो कौन अब कुछ नया चुनने लगा है, खुद से मन जो कुछ अब कहने लगा है ! हाथों की लकीरों […]

Night Moon & You Hindi Poem
Poetry

रात और चाँद …

ये कैसी शरारत करते हो, रात तारों के साथ ऊँघने छोड़ जाते हो, तेरे जाने के बाद एक तारा, पास आ बैठता, कन्धों पर हाथ रख, पूछता है तुम्हारी कहानी, मैं उससे झूठ कहता की, तुम एक दिन आने को कह गए हो, उसकी हँसी चिढ़ाती है मुझे, जैसे उसने बात न मानी हो मेरी […]

social media troll
My Voice Thoughts

बातें गाली गलौज की …..

सोशल मीडिया और गाली गलौज …. बहुत अच्छा प्रश्न है ; व्यापक है ; समस्या है ! लेकिन रोज एक ही बात बोलना की गाली गलौज हो रहा , ये कौन लोग है , वो कौन लोग है ! बीजेपी कांग्रेस व्हाट्सप्प फेसबुक तू तू मैं मैं ! आखिर कब तक यही जुमला फेंकते रहेंगे […]

your face hindi poem
Poetry

तेरा चेहरा अब …

हृदय का एक कोना, तुम्हारा एक हिस्सा था वहाँ, तेरा चेहरा और कई तस्वीरें, भरने लगा है वो, उलझनों से अब, जद्दोजहत तो होती है, अकेले उन्हें हटाने की, शायद रख पाता तुम्हें पर, तुमने भी कोई कोशिश नहीं की ! ऐसे तो बसी है मन में, एक सुन्दर कृति पुरानी, रूखे रूखे रुख ने […]