Poetry

पलायन क्यों ??

पलायन क्यों …

साढ़े साती सुबह, अलसाती कम्बल,
कोई गीत की धुन टकराएँ ऐसे..
तन से मन को वहाँ खीच ले गए जैसे,

है ये कौन सी, व्यथा या झूठा दम्भ,
तिल तिल घिसते तन और पल पल रोता मन !

है मेरी माटी ऐसी, जो दो जून का निवाला ना दे सके ?
सूख गए गाँव के वो कूप, जहाँ प्यास ही नही मिटती !

यहाँ का साथ जँचता नही, नाता वहाँ का टूटता नहीं !
ये दो पल की बात तुझसे माँ, अब कुछ भी छुपता नही !

सोचे थे बनते बाबूजी की लाठी, दवाई बन बैठे !
मन क्यों मेरा पाषाण, हम तो पलायन के बागी बन बैठे !

में और मेरी सोच हो गयी संगणक सी,
पीपल और बरगद भी झाड़ी बन बैठे !

किसने तोड़ा ये नाता, हम राहों के राही,
अब खुद के घर के सिपाही बन बैठे !

ये कैसी शिक्षा..गले में लटकाये तमगा,
झुके नजर हर इज्जत की दुहाई कर बैठे !

ना खुला आसमाँ.. ना रात चौपाल पुरानी,
हम हवाओं के रुख से भी बेवफाई कर बैठे !

अपना घर, अपना माटी, वो पनघट सुना !
कब लौटू ना जाने, लगे बस जग सुना ..

और पूछे ये पलायन क्यों ??

[शब्दों का हर फेर, पर कविता हर रंग समेटे रहते,
आज हम देश विदेश अपनी माटी, परिजनों से दूर,
किस कोरे सुख की अभिलाषा में भागे फिर रहे,
ना दिवाली ना होली आती,
ये ऊँची तालीम और ऊँचे तमगे हमारे पल पल आत्मसम्मान को झुकाती..
और मन में सवाल उठती है .. पलायन क्यों ?]

~ सुजीत भारद्वाज
Sujit Kumar Lucky
Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : - सुजीत भारद्वाज
http://www.sujitkumar.in/

One thought on “पलायन क्यों ??

Comments are closed.