उलझते सुलझते बातें जिंदगी के .. My LifeStream -2

ये रात शर्त लगाये बैठे है नजरे बोझिल करने की..
और हम ख्वाब सजाने की बगावत कर बैठे है …

(वक्त के खिलाफ ये कैसी कोशिश ! ! )

यूँ भागती कोलाहल जिंदगी मे ..
कहाँ थी कोई ख़ामोशी..
हम छुपते रहे , पर वो वजह थी..
आखिर मुझे ढूंड ही लिया उसने ! !

(ये कैसी ख़ामोशी. थी ! ! )

राह बंदिशे से निकल कर चलने दे एक कारवां …
वक्त की हाथो न रुक जाये एक खिलता हुआ जहाँ ..

(रोको न इसे खिलने से ! ! )

शिकन न दिखे इन चेहरों मे कभी …
चाहे सजदे मे झुके रहे हम यूँ ही तेरे दर पर ..

(कोई गम के निशा न हो ! ! )

अनजाने में अपनापन दिख गया ..
आपकी सादगी में ये नजर झुक गया ..
जब भी कभी हुआ परेशां , आपका संग दिख गया …

(कैसी उमीदे है ये ? )

रचना : सुजीत कुमार लक्की