Poetry

मेरी बात .. अब तेरी बात – Participation in Facebook Virtual Poetry Meet

मेरी बात ..अब तेरी बात .. मेरा दर्द .. अब तेरा दर्द .. कुछ चंद लम्हों के लिए ही सही , ऐसी कुछ बिछी बिसात थी ! ~ दिन काली .. रात नीली .. कैसी ये बात थी .. उम्मीदों के महल ढह ढह रहे थे धीरे धीरे .. अब बस धीमी धीमी सी एक […]

Poetry

उलझते सुलझते बातें जिंदगी के .. My LifeStream -2

ये रात शर्त लगाये बैठे है नजरे बोझिल करने की.. और हम ख्वाब सजाने की बगावत कर बैठे है … (वक्त के खिलाफ ये कैसी कोशिश ! ! ) यूँ भागती कोलाहल जिंदगी मे .. कहाँ थी कोई ख़ामोशी.. हम छुपते रहे , पर वो वजह थी.. आखिर मुझे ढूंड ही लिया उसने ! ! […]

Poetry

इन्द्रधनुषी रंग जिंदगी के …My LifeStream -1

यूँ रफ़्तार बहुत ही तेज थी … टुकड़ो टुकड़ो को समेटा.. देखो बन रहा इन्द्रधनुष सा …कुछ रंग थे इस तरह … (चाँद ने क्या लिखा रात की हथेली पर ! ! ) यूँ चांदनी रात थी.. और ये तुम्हारी ही आहटें थी..चाँद भी उतर आया था हमारे पास .. बस यूँ झकझोरा किसी ने […]