मैं रहूं या ना रहूं भारत ये रहना चाहिए …

कौन नहीं रो पड़े ४० घरों के चिराग बुझ गए ; वो सैनिक जो हमारे लिए धुप ठण्ड बरसात में भारत के हर भूभाग पर रेगिस्तान, पहाड़, नदी , जंगल …

Read More

तन मन से नमन हो अपने वतन की – #HappyIndependenceDay

दासता को तोड़ वर्षों पहले फेंका, और फिर था आजाद अपना जहाँ । जिस जंजीर को हमने उतार फेंका था, कड़ियाँ उसकी फिर हर तरफ जुड़ती जा रही, आजादी अपनी …

Read More

बस देखो ढूंडो यही कहीं होगी गांडीव परी – India’s Independence Day

हजारे हजार अब जलने दो, साख को मशालो में भरने दो, अब लड़ना है दुह: शासन से, मद में सत्ता ने पी मदिरा, देश चलाने का बस है झगड़ा ! …

Read More