English Poetry

Silent Samurai

Quiet between the four walls,
My Hand covered lament eyes,
It is a city where dreams decorated,
Why this city shatter my all dreams..

An acquaintance that was left behind,
My stopped tired breath says a voice,
The path is hard, dark enough to,
You do not stop, do not get tired just to walk and walk!
Like a samurai.. Silent samurai..

Who quiet today, who down today..
One day he fly, one day he dream
Like a samurai.. Silent samurai..

Written by : Sujit..
Sujit Kumar Lucky

Sujit Kumar Lucky – मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . “यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : – सुजीत भारद्वाज

http://www.sujitkumar.in/