holi jo gi ra sa ra ra
Poetry

जोगी रा सा रा रा …..

जोगी रा सा रा रा होली का रैप है, इसके बिना होली अधूरी है, इसके बदले स्वरुप में आप डीजे वाले बाबू को तरजीह दे सकते लेकिन इसका स्वरुप बरसों से चला आ रहा ! जोगी रा कौन है, क्या कहना चाहता …. सोचियेगा तो मालूम होगा ये हमारे बीच में बैठा ही जन समान्य है जो फाल्गुन के बहाने व्यंग्य के माध्यम से कड़ी और तीखी आलोचना करता है समाज की व्यवस्था की खुद की आप की, हाँ इसको वो हास्य में भीगो के आपके सामने रखता, जोगी रा आलोचक है, समीक्षक है, विचारक है तो जोगी रा बेपरवाह है मदमस्त है !

तो कुछ जोगी रा सा रा रा की तान इस होली पर !


जोगी जी
2G आया 3G आया,
आया 4G का कमाल,
टावर लगाना भूल गये,
मोबाइल हुआ बेहाल !
सा रा रा रा रा
जोगी रा सा रा रा
वाह भाई वाह बा खिलाडी बा.. !!

जोगी जी
व्हाट्सएप आया फेसबुक आया,
आया ट्विटर का बवाल,
चिट्ठी पतरी भूल गया,
कोई पूछे न केकरो हाल,
वाह भाई वाह बा खिलाडी बा..
हाय बोला हम्म बोला ,
बोला गुड नाईट प्रेम निशानी,
माय बाप को बिजी बोला,
ये कैसी रे जवानी,
सा रा रा रा रा
जोगी रा सा रा रा
वाह भाई वाह बा खिलाडी बा.. !!

जोगी जी
शासन बोले भाषण बोले,
देश है ये महान,
जाति धर्म पर खून बहाके,
नेता थूके पान !
जोगी रा सा रा रा
सा रा रा रा रा
वाह भाई वाह बा खिलाडी बा.. !!
—–

रंगो के इस पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं – सुजीत

Sujit Kumar Lucky

Sujit Kumar Lucky – मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . “यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : – सुजीत भारद्वाज

http://www.sujitkumar.in/

2 thoughts on “जोगी रा सा रा रा …..”

Comments are closed.