Poetry

और तभी सुनामी आती है !

है दंभ अब किन बातों का !
आंखे फाड़े काली रातों का !
विकट जो चुप्पी छाती है,
और तभी सुनामी आती है !
बौने से जो अब पेड़ खड़े,
साधी चुप्पी से मौन धरे !
ऐसी ऊँची झपटे मन को विकल कर जाती है!
और तभी सुनामी आती है !
देख अवयव अब मिश्रण का,
जो कहीं चूक हो जाती है …
जीवन तरंग रेडियो सी बन जाती है !
भरते थे हुंकार शक्ति का,
हाथों में था भार उसीका !
परमाणु दानव मुँह जो अपना फैलाती है !
और तभी सुनामी आती है !
सन्नाटो में शोर जमीं का,
एक बचपन मासूम किसी का,
घर पहुचानें को जब कह जाती है,
दिल क्रन्दन तब कर जाती है …
और तभी सुनामी आती है !
रचना : सुजीत
Sujit Kumar Lucky
Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : - सुजीत भारद्वाज
http://www.sujitkumar.in/

One thought on “और तभी सुनामी आती है !

  1. ki baten Likhna Achha,
    Hr manav me plta hae bachha,
    Kabhi hae hansta kbhi hae rota,
    Kadam-kadam pe khata gachha ,

    Mn ki baten likhna achha …….

    SHISHODAWARRIOR / TWITTER

Comments are closed.