इस शहर .. उस शहर !!

इस शहर . . उस शहर, जिन्दगी होती बसर, रेत मिट्टी धूलों का रस्ता, सबकी मुझको है खबर । एक मुट्ठी आसमां, आँखें करती सब बयाँ, नींद ख्वाब मन को …

Read More

क्षण प्रतिक्षण व्यतीत हो रहा – Life Spending

क्षण प्रतिक्षण व्यतीत हो रहा,कुछ खोया सा अतीत हो रहा ! कुछ साँसे चल रही नब्ज में,कुछ धड़कन भी मंद हो रहा ! भीड़ परिदृश्य से भरे अधर में,किस शोर …

Read More