पूस के मेले – Winter @ India


लगे खेत में पूस के मेले,

सरसों अरहर मस्ती में खेले !

ठीठुरी पुरवा पवन बहके है हौले..
अलसी व गेहूँ की बालियाँ डोले !

विहंग तरंग बांस पर झूले,
खेत पर जाने अलसाते भूले !

आग लपेटे अलाव पर जब बोले,
शाम समेटे कई किस्सों को खोले !

धुप धुंध से आंख मिचोली खेले,
निर्जन मन कैसे इस शीत को झेले !

कोई रात विरह में नैना खोले,
कोई शांत शीत ओस संग सो ले,
कोई शरद शराब, तो कोई चाँद को छु ले !

निर्जन मन कैसे इस शीत को झेले !

2 thoughts on “पूस के मेले – Winter @ India

Comments are closed.