गणतंत्र दिवस – मैंने भी शांति नहीं मानी है …

महगाई पर माथे की शिकन !
हिंसा से विचलित मन,
गणतंत्र पर जन गण मन !
हर बुराई के खिलाफ एक रण ,
मैंने भी शांति नहीं मानी है …

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ जय हिंद !

रचना : सुजीत कुमार लक्की

2 thoughts on “गणतंत्र दिवस – मैंने भी शांति नहीं मानी है …

Comments are closed.