उलझा दिया आज फिर सवालों ने !

परतों में रखा था छुपा के हमने खमोशी !
खोल दी जो थोरी सी हवा उठी किसी ओर से !

थोरी दूर जा के अहसास सा होने लगा !
अब कोई लौटने वाला नही इन राहों से !

मेरी बातों की गुजारिश ऐसी हुई खाली !
जैसे कोई ख्वाब जला गया हो सीने से !

देखे न दिखे मेरे चेहरे पर एक उमंग !
आज फिर पाया वहाँ बस सवालों का संग !

उलझा दिया आज फिर सवालों ने !

:सुजीत
(शब्दों का साथ नही था , थोरी उलझ गयी बातें भावो को चुन ले !)

One thought on “उलझा दिया आज फिर सवालों ने !

Comments are closed.