Up election poem sattire
My Voice Poetry Thoughts

यूपी का चुनाव-प्रचार

जनता की सेवा के लिए हो गया, पिता पुत्र में भी तकरार, ये है यूपी का चुनाव-प्रचार ! इधर के उधर गए, और उधर के नजाने किधर गए, मिल बैठे सब नदियों जैसे, धूल गए पुराने कर्म और विचार, ये है यूपी का चुनाव-प्रचार ! घी-तेल सब चुपड़े खायेंगे, अब कोई क्यों करे व्यापार, माटी […]