बंदिशें – An Urban Ode

अनजान अकेली सी है ये राहें सदियों से,करवट भी नही ले सकती ऐसी बंदिशें ! ये बड़ी ऊँची ऊँची गगनचुम्बी महलें,लगता सूखा लंबा बरगद खड़ा हो ! बेरंग सुख गयी …

Read More