Poetry

शाम का ढलता सूरज

रोज ख़त्म होता एक और दिन …
एक शाम होती…
शाम का ढलता सूरज…
और क्या सोचते आप और हम …
परिदृश्य . . .

शाम का डूबता सूरज , जैसे रात को आवाज लगा रही हो !
उदेव्लित सा मन , जैसे कुछ तलाशता थका सा हो रहा !

परिस्थिति . . . .

हम भी शामिल हो जाये, उस कारवां में जो सुकून तलाशने जा रही,
जैसे दिन की बेजान नैनो को, रात एक शीतलता देने जा रही हो ,

पथिक . .
कुछ जा रहे जहाँ, एक ममता की फुहार का इन्तेजार है,
या खुशिया छलकाती, अपनों के प्यार का ऐतबार है,
या किसी आंसू को, आज रात की मादकता का इंकार ,

पराकाष्ठा . . .

पर में क्यों बन रहा , इस कारवां का पंछी,
जिसे न तलाश , जिसे न प्यास ,
बस है तो बस इस ढलते सूरज का अहसास ! ! !

रचना : सुजीत कुमार लक्की (कुछ पंक्ति बद्ध नहीं है रचना बस भावो को चुन लीजये ! !)
Sujit Kumar Lucky

Sujit Kumar Lucky – मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर बिहार ! पेशे से डिजिटल मार्केटिंग प्रोफेशनल.. अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . “यादें ही यादें जुड़ती जा रही, हर रोज एक नया जिन्दगी का फलसफा, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! : – सुजीत भारद्वाज

http://www.sujitkumar.in/

3 thoughts on “शाम का ढलता सूरज”

  1. भाव अच्छे हैं, स्वानुभव और सत्य का अन्वेषण कर रहे हैं.
    कुछ पंक्तियाँ सुधार के लिए आग्रह कर रहे हैं.

    (और कुछ शब्द भी – नयनों लिख सकते हैं)

  2. पर में क्यों बन रहा , इस कारवां का पंछी,
    जिसे न तलाश , जिसे न प्यास ,
    बस है तो बस इस ढलते सूरज का अहसास ! ! !

    -सुन्दर भाव उकेरे हैं. बधाई.

Comments are closed.