वो चले गए – wo Chale gaye

वो चले गए ,
थोड़ा मुस्कुरा के गए,
हमे तो रुला के गए !

हम भी मगरूर पूछ ही लिया ,
कब आओगे लौट के,
वो बस अपना सर झुका के गए !

सोचा कुछ तस्वीरे थी किताबो पर ,
पर देखा था वो उनको भी मिटा के गए !

कहा मैंने भी ,
निकल जा मन तू भी राह अपनी ,
जब वो दामन ही छुरा के गए !

अब तो यादों का था साथ अपना,
शायद वो उनको भी भुला के गए !

ठिठका हुआ सा था में राह पर ही ,
पर वो चले गए , हमे तो रुला के गए ,
थोड़ा मुस्कुरा के गए !

रचना : सुजीत कुमार लक्की

5 thoughts on “वो चले गए – wo Chale gaye

  1. विंकल

    हम भी मगरूर पूछ ही लिया ,
    कब आओगे लौट के,
    वो बस अपना सर झुका के गए !

    सोचा कुछ तस्वीरे थी किताबो पर ,
    पर देखा था वो उनको भी मिटा के गए

    umda rachna hai…..
    par jaise udan ji ne kha ki thoda shabdon ko clear likha karo jisse or bhi nikhar hoga or pathkon ka sarlata se samjh mein aayega….

    jo bhi hai rachan umda likhi gayi hai…..

    Reply
  2. हरकीरत ' हीर'

    कहा मैंने भी ,
    निकल जा मन तू भी राह अपनी ,
    जब वो दामन ही छुरा के गए !

    अब तो यादों का था साथ अपना,
    शायद वो उनको भी भुला के गए !

    ठिठका हुआ सा था में राह पर ही ,
    पर वो चले गए , हमे तो रुला के गए ,
    थोड़ा मुस्कुरा के गए !

    सुंदर …..!!

    कुछ टंकण की गल्तियाँ हैं सुधार लें …..प्रयास अच्छा है ……!!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *