wrecked life
Poetry

उजाड़…

उजाड़ दिन , जैसे कुछ किताबें इधर उधर हो बिस्तर पर , कपड़े मुड़े सिमटे फेंकें हुए , क्या कहाँ किस ओर क्या पता , घण्टों खोजो तो न मिलता कोई सामान , ये थे उजाड़ घर के कुछ अस्त व्यस्त कमरे । अनबन, आधे अधूरे मन से बातें, बेरुखी, तकरार और जिरह ही जिरह, […]

respectful relationships poem
Poetry

बेअदब अदब रिश्ते …

वो रिश्ते जो अबूझ थे अच्छे थे, ठूठ पेड़ की तरह, न कोई हलचल थी, न कोई हवाएँ और न ही बढ़ते वो किसी की तरफ, बिना पहचान के खड़े रहते आमने सामने, ख़ामोशी से एक अदब का रिश्ता निभाते ! ये हरियाली लताओं सा रिश्ता, लिपटते मिलते, फिर बढ़ जाते गले की ओर, घुटन […]

Poetry

अहसासों को कभी पूछना …

तुम अपने ताल्लुक के, अबूझ हिस्सों में मुझे कभी देखना, उस ओर भी एक दिलचस्प इंसान है, बिलकुल तुम्हारी उम्मीदों की तरह का ! उम्मीदों के पहाड़ सा ढक दिया तुमने, जज्बातों को घुटन की आदत सी हो जाएगी, कभी खुले खुले में ला के देखना, ये जज्बात बड़े खूबसूरत से होते है ! अहसासों […]