Poetry

एक अनजान सफ़र

भागती ऊहापोह जिन्दगी में क्या खोने पाने की चाहत है, बस उबते थकते मन को बहलाते चले जा रहे एक अनजान सफ़र पर ! क्या पाउगा या क्या खो दूगा, गुमनाम चाहत है एक हसरत है, सपनो की बादल की एक बूंद ही सही बस चले जा रहे एक अंजन सफ़र पर रचना : सुजीत […]

Poetry

Indian Independence Day Quotes: Spirit of 15th August

शहीदो की मजारो पर लगेगे हर वर्ष ये मेले वतन पर मरने वाले का आखिर यही निशा होगा! मुझे तोर लेना वनमाली उस पथ पर तुम देना फेक मातृभूमि पर शीश चराहने जिस पथ जाये वीर अनेक ! जिसको न निज गौरव तथा निज देश का अभिमान हैवो नर नही पशु ही निरा अरु मृतक […]

Poetry

बीत गए वो दिन

आज जिन्दगी की कसमकश में हमने अपनी उन अपनी पुरानी यादों को पीछे छोड़ डाला जहाँ  हमारे मन का कोई कोना आज भी वही बसता है , माँ के हाथों का खाना हो या , दोस्तों के संग की शरारत , पिताजीका डाटना हो या अपने गाँव की खेतो की हरयाली , खुशिओं का कलरव […]