Love Life & Things
Poetry

कुछ दिन जब …

कुछ दिन जब तुम नहीं बोलते, कुछ दिनों की चुप्पी होती, फिर बोलने लगती हर चीजें तुम्हारी तरह । सुबह सुबह खिड़की के पर्दो से झाँकती है धुप, तुम्हारी शक्ल लेकर, कमरे की वो दीवार, जिसपे बड़ा सा कैनवास लगाया था, बदल के हो जाती है, उसकी सारी तसवीरें तेरे चेहरे जैसी । कभी गुजरता […]