ए मौत तू अब एक कविता नहीं …

मौत अब मौत नहीं सियासी उत्सव सा हो जाता, बन जाता उल्लास और मौका सबके लिए , लम्बी लम्बी गाड़ियाँ रफ्तार से आती , उतरते है कुछ लोग जिनसे उसका Read More …

पागल दुनिया ….

mad world

बस ओहदे बनने की होड़ में ; हमने इंसान बनना छोड़ दिया । तू मैं और मैं तू के शोर में ; हमने बातें सुनना छोड़ दिया । बस संदेशों Read More …