i-dream-of-a-digital-india
Digital Corner

I Dream of a Digital India

डिजिटल इंडिया क्या एक नारा, स्लोगन, योजना या वादा मात्र है या फेसबुक पर अपने तस्वीर को तीन रंगों में रंग लेने का चलन या एक विरोध मात्र की हम फेसबुक के एक प्रोजेक्ट को वोट कर रहे ! ऐसे ही तमाम अटकलों उपक्रमों के बीच पनप रहा है भारत का डिजिटल ड्रीम ; आप […]

If a writer falls in love with you, you can never die..
Random Thoughts Thoughts

यू कैन नेवर डाय – Inbox Love 11

जब सब शांत स्तब्ध और अकेला सा हो जाता तो यादों का बादल तैरने लगता मन के खुले आसमानों में ; यादें भी तो कभी दम तोड़ देती होगी किसी के मन में कितना याद रख पायेगा कोई जिंदगी के अनेकों उधेड़बुनों में ! पर तुम नहीं मरोगे कभी … उसने बड़े सहज ढंग से […]

suicide hindi poem
Poetry

ख़ुदकुशी

एक हतप्रभ करने वाला खबर था, किसी पिता को बुखार में तपते बच्चे को हाथ में लिए बड़े बड़े अस्पताल से लौटा दिया जाता, बच्चे की मौत माँ बाप के जीने की उम्मीदों को तोड़ देती और वो खुदखुशी कर लेते ! ये एक शहर की खबर मात्र बन गुम हो सकती लेकिन मानवता के […]

Life Events

Awarded in StoryMirror Short Stories Contest Season 1

लेखन स्वंय एक पुरस्कार है ! आपके शब्द जब लोगों तक पहुँच कर उनके मन को प्रेरित करें और आपकी रचना से वो जुड़ जाएँ तो आपके लेखन का वास्तविक प्रयोजन सफल हो जाता ! कुछ वर्ष पूर्व मेरी एक रचना “एक गुड़िया परायी होती है” को काफी लोगों से सराहना मिली थी और अब […]

set free your words
Poetry

लब्जों को ढील दो ….

थोड़ा लब्जों को ढील दो ; आके मुझसे वो बातें कर ले ; तेरे कहने पर ही वो आयेंगे ; जाने तुम आँखें दिखाते होगे; किसी पराये के तरह वो रहते है ; सामने बस घंटों देखा करता, न बोलते न सुनते वो कुछ, लब्जों को भी तुमने सीखा दिया, जाने कैसे अपना सा बना […]

dream die
Random Thoughts Thoughts

रोजमर्रा ….

NDTV के एक रिपोर्ट से प्रेरित ~ रोज एक जैसी रोजमर्रा की जिंदगी, वही वक़्त से पहुँचने की रोज फ़िक्र तो वापस समय पर आने की कोशिश ! एक पाश में जकड़ा समय का पहिया, बस एक नियत कार्यों और गतिविधयों की लम्बी सुरंग जो जिंदगी के अंतिम मुहाने तक जाती ; उस ओर जब […]