कभी रूबरू हो खुद से – A walk on night, a great meet with yourself !

meet with yourself

कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे Read More …

Atonement of Words – IN Night & Pen / Inbox Love -8

एकदम रात का सन्नाटा, ध्यान से सुनो, दिन के दबे सिसके बातों की प्रतिध्वनि; कहीं ख्वाब जलने की तो कहीं उम्मीद सुलगने की गूँज ! उस दिन काफी खामोशी के Read More …

सुर्ख रंग – Inbox Love 6

चारों ओर रंग सराबोर था ; नाउम्मीद नजर इनबॉक्स पर ही टिकी थी ; पहल मैंने भी तो नहीं की .. तो तुमसे नाराजगी कैसी ? यूँ ही कई रंगों के Read More …