Poetry

सूखे रिश्ते … Like A Dying Leaves

तुम थे तो कुछ लिख लेता था, तुम फिर आते तो एक नज्म होती ! इस शहर से उस शहर जाने में, तुम भूल आये वो पौधा .. हर सुबह तुझसे मिलके जो जी लेते थे फिर जिंदगी, इतने दिन सींच के क्यों तुमने मुँह मोड़ लिया, धीरे धीरे पत्तियां पिली कुछ गिरती, जैसे कोई […]

Random Thoughts Thoughts

Love in Inbox – #इनबॉक्स_लव

#इनबॉक्स_लव उस पुरे कतार में एक पुराना संवाद तुम्हारा अभी तक बचा हुआ है; सब मिटा देता हूँ किस्तों और बजारों के खबर; नहीं मिटा पाता वो आखिरी संवाद; शायद तेरा किस्सा नजाने फिर कब आये ।। #इनबॉक्स_लव दिन प्रतिदिन घटता गया स्माइली के बदले स्माइली में उत्तर । अब 4-5 के हँसते गुच्छे के […]

Night & Pen Random Thoughts Thoughts

बोझिल शाम से सुकूने रात – पुरानी जीन्स के संग !!

बोझिल शाम से सुकूने रात और पुरानी जीन्स का सफ़र कुछ इस तरह है की … रोज ही ये सफ़र शुरू होता और रोज ही हमें चलते इस तरह जब मन में कुछ सिकन सा और ऐसा लगता ! “वक्त ने किये क्या हँसी सितम, तुम रहे ना तुम हम रहे ना हम.. जाये हम […]

Poetry

तन मन से नमन हो अपने वतन की – #HappyIndependenceDay

दासता को तोड़ वर्षों पहले फेंका, और फिर था आजाद अपना जहाँ । जिस जंजीर को हमने उतार फेंका था, कड़ियाँ उसकी फिर हर तरफ जुड़ती जा रही, आजादी अपनी फिर बेड़ियों में घिरती आ रही । हर सड़कों पर मारा मारा हो आता वो बच्चा, जब हाथों में छोटे छोटे तिरंगे लिए, मैं कैसे […]

Poetry

किस उल्फ्तों में खोये रहते हो ?

यहाँ जिंदगी से जी नहीं भरता, तुम किस उल्फ्तों में खोये रहते हो ! उदास शाम में देखों लौटते चेहरों को, सब आगोश है नींदों के ही इन पर छाये हुए ! इक कयास सा है मन में कुछ भूलने का, या विवश है मन यादों में पल पल खोने का ! कुछ धुनें तलाश […]

Poetry

जिंदा हो मेरे जीस्त में – Happy Friendship Day !!

दिलों में रहते हो याद बनकर, चलते हो हर कदम साथ बनकर, कभी अजनबी कभी हमसफर, जिंदा हो मेरे जीस्त में अहसास बनकर ! क्या कह गये तुम क्या कह गये हम, जाने दो रहने दो इनको कुछ बात बनकर, अब भी पास हो मेरे बीते लम्हात बनकर, बिखेर लेना हर पल हँसी अपने चेहरे […]