Photography

जब शब्द खामोश हो – तस्वीरें बोलती : My Paintbrush & Art Collection

जब शब्दें खामोश हो जाती, तब तस्वीरें बोलती, इनमे छुपा होता एक मर्म, एक वक्त .. एक याद .. एक पुकार … एक खामोशी .. एक कला .. एक आत्मा !! Sometime I hold paintbrush off course on digital canvas; here I collected my some paintbrush and painting collection. Every art of mine holds the […]

Night & Pen

Reprise Something – Night & Pen

बहुत द्वंद और एक बोझ जैसे पर्वतों की श्रृंखला, और रेगिस्तान सी राह में दूर जाता एक राही; विस्तृत अथाह सी राह में कभी इतना पीछे रह जाता; की चलना मुश्किल सा प्रतीत लगता ! कब तस्सली हो, भागते भागते ! कितने सवाल है ….. फैसलों पर .. क्योँ ऐसा लगता मौसम बेजार हो इर्द […]

Poetry

दूसरी नींद

कुछ टूटे हुए काँच खिड़कियों के, जैसे सर्द हवाओं ने रुख देखा उसमें ! आधे ऊँघे परे पेड़ कुछ दुरी पर, और साथ उसके आसरे अंदर खोये हुए, लिपटी चुपचाप सी रोशनी लेम्पपोस्टों की ! एक नींद आधी सवालों वाली टूट सी गयी, कितना पहर था नजाने दूसरी नींद के वास्ते ! सिरहाने परे ख्वाबों […]

Poetry

जिंदगी तु है .. जिंदगी ये है – Life ?

जितना तुझे समझता, उतना तू उलझ जाता ! हर कदम रुक तुझे मुड़ के देखता, तू उतना दूर चला जाता ! जितना मैं तुझे खुदा कहता, तू उतना ही रूठ जाता ! शिद्दत से इबादत है मेरे मन में, मैं हर कदम काफ़िर बन जाता ! जब तलाशता किसी खाली पल में, उसी वक्त मुझे […]

Poetry

कुछ पूछा होता – Sometimes I feel ?

सहूलियत से हर दफा किस्सा छेरते, कभी कशमकश में हाल पूछा होता !किस कदर अब ना कोई हँसता है, बस सवाल की गहराहियों में दफ्न हो, क्या कुछ सोचता है अब ! ना जाना कभी ना पूछा कभी, दबे पावं झाँक के जाते तो रोज देखा, कभी दौड़ के आते रोक के देखा होता ! […]