Not as a Stranger – Night & Pen

इन उम्मीदों की मंजिल क्या है .. ये सवाल अपने आप से पूछता अक्सर वो;वर्तमान से उस आने वाले समय की परिकल्पना कैसे उमड़ रही ! जैसे वो कहा रहा Read More …

कुछ अनकहे (Untalked) – Night & Pen

छोटी सी बात ये, कोई नयी नहीं थी;  ऐसे तो इतने दूर के रास्तों में कितनी नोक झोंक थी !कुछ कहे कुछ अनकहे,  अनेकों इतने लम्हें के सिलवटों में दबी Read More …

Again Untold – Night & Pen

असमंजस में था मन,खुले आसमाँ को देख,आज उसकी चाहत थी,टूटे कोई तारा फिर … वो मांगे बैठे कुछ दुआयें !शिकायत नहीं किसी से है कोई,फकत खुद के फैसले, खुद से Read More …

क्षण प्रतिक्षण व्यतीत हो रहा – Life Spending

क्षण प्रतिक्षण व्यतीत हो रहा,कुछ खोया सा अतीत हो रहा ! कुछ साँसे चल रही नब्ज में,कुछ धड़कन भी मंद हो रहा ! भीड़ परिदृश्य से भरे अधर में,किस शोर Read More …

पुराना रिश्ता – Night & Pen

उसने कुछ पूछा ..आदत तो ऐसे चुप रहने की ही थी,कम बोलना, चेहरे ऐसे जैसे शब्द दफ़न हो वर्षों से ;यूँ तो ये रात अक्सर साथ देती है मेरा,बयाँ करता Read More …

कुछ बातें – Some More Words

तुमसे यूँ चुप सा बोलता हूँ मैं ;मेरी कहीं सारी यादें ना छलक जाये ! देखो मैंने छोर दिया किस्सा अधूरा आज;क्योंकि कल जो फिर तुम्हें आना होगा यहीं ! Read More …