Poetry

The Paths of Destiny

किस्तों किस्तों में सुबह..किस्तों किस्तों में होती शाम ! किस मुफलिशी के मारे..हो गये देखो गुमनाम ! इस सफर को क्या नाम दोगे..बस राहों को दे दो कुछ नाम ! साथ टूटे या हाथ छुटे..होती नहीं हसरतें नाकाम ! बात हमारी भी होती होगी..कुछ किस्सों में होगा ही नाम ! गिर गिर के सम्भलते है..चुन […]

Poetry

Life Lost In Lunar Landscapes!

Life Like Lust Of Living..Lost In Lunar Landscapes! Love Like Lean Lighthouse..Let Leave As Losel Lineate! Little Lamp of Light..Lack of Lite Luck Lapse! Lot of Lavish in Live or Late..Later Laugh At Long Last Lakes ! Life Lost In Lunar Landscapes! #Try : $k – ** Losels : A worthless person.– ** lineate : […]

Poetry

□ ■ Dreams of Night □ ■

सवा पहर का रात वो ..वक्त टूटी ..नींद छुटी,आवाज दे गए थे शायद,देखा सिरहाने कुछ लब्ज थे परे,गुनगुनाये तेरे, कह गए बात कुछ ! बीती रात का भ्रम सही या,या सुबह होने का सच था खड़ा ! चले गए थे .. ख्वाब के तरह..वो ख्वाब जो टूटता है रोज,संवर जाता रोज अपने टुकड़े सहेज के,फिदरत […]